सांसद निशिकांत दुबे पर छेड़खानी की कार्रवाई पर रोक जारी: आचार संहिता मामले में सुनवाई आज, आचार संहिता उल्लंघन मामले में प्राथमिकी दर्ज

0 14

रांचीएक घंटे पहले

  • लिंक की प्रतिलिपि करें
सांसद निशिकांत दुबे पर कीट कार्रवाई पर रोक जारी - दैनिक भास्कर

सांसद निशिकांत दुबे पर कीट की कार्रवाई पर रोक जारी है

झारखंड हाई कोर्ट ने आचार संहिता उल्लंघन के पांच अलग-अलग मामलों में सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई करने पर रोक को बरकरार रखा है. इस मामले में आज झारखंड हाईकोर्ट में सुनवाई हुई. सुनवाई जस्टिस गौतम चौधरी की कोर्ट में हुई. उन्होंने सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ की जा रही कार्रवाई पर रोक लगाना जारी रखा है। साथ ही कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई किसी अन्य सक्षम बेंच को भेजने को कहा है.
सुनवाई क्यों हो रही है
वर्ष 2021 में मधुपुर विधानसभा उपचुनाव के दौरान सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ गलत ट्वीट और बयान देने के आरोप में आचार संहिता उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया था. उसके खिलाफ अलग-अलग थानों में पांच प्राथमिकी दर्ज हैं। इसी मामले को लेकर आज सुनवाई हुई. आवेदक की ओर से अधिवक्ता प्रशांत पल्लव और पार्थ जालान पेश हुए। वहीं राज्य सरकार की ओर से मनोज कुमार ने पैरवी की. पिछली सुनवाई में राज्य सरकार की ओर से जवाब दिया गया था लेकिन मामले में राज्य सरकार की ओर से जवाब दाखिल नहीं किया जा सका। जिस पर कोर्ट ने राज्य सरकार को जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया था.
क्या है पूरा मामला
सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ मधुपुर उपचुनाव के दौरान देवघर नगर थाना सहित मधुपुर अनुमंडल के पांच थानों में प्राथमिकी दर्ज की गयी थी. जिसमें प्रार्थी की ओर से कहा गया कि घटना के 6 माह बाद प्राथमिकी दर्ज की गयी है. प्रार्थी का कहना था कि जिस धारा में एफआईआर में लगाया गया है, उसमें केवल शिकायत का मामला हो सकता है, एफआईआर दर्ज नहीं की जा सकती है। सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ देवघर टाउन थाने में कांड संख्या 527/2021 दर्ज है।

और भी खबरें हैं…


हमारे Whatsapp Group को join करे झारखण्ड के लेटेस्ट न्यूज़ सबसे पहले पाने के लिए। 

यह पोस्ट RSS Feed से जेनेरेट की गई है इसमें हमारे ओर से इसके हैडिंग के अलावा और कोई भी चंगेस नहीं की गयी है यदि आपको कोई त्रुटि/शिकायत मिलती है तो कृपया हमसे संपर्क करें।

हमारे इस पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद!!!

Leave A Reply

Your email address will not be published.